Posted on

तुम्हारे जाने के बाद !

meri maa

कविता :-

तुम्हारे जाने के बाद –

                                    मुंह बंद है – ख़ुशी के कमल का ..

                                     जूही के होंठ हिलते ही नहीं ….

                                        समीर है कि ठंडक में सुलग उठा है ….

                                       और मेरे मन के उदगार-द्वार –

                                          खुलते ही नहीं !!

तुम्हारे जाने के बाद –

                                           मन तलाश रहा है -अंधेरों को ….

                                            छूता है – काली परछाईयों को ….

                                             उन पलों के पेट से तुम्हें जिन्दा करता है-

                                               जो जिए थे हमने -साथ-साथ ….

                                                जिन्हें सींचा था साँसों से -बार-बार …!!

तुम्हारे जाने के बाद …

                                        मैं अपनी पहचान भूल गया हूँ ….

                                          रंग-रूप …कहा-अनकहा ..भोगा  -न-भोगा –

                                            क्या था – सब ….?

                                            सब भूल गया हूँ …

अब तुम्हारे आने की पहचान में ……

मैं ……..

कृपाल !!