Posted on

नही चाहिये इतने बड़े बाल

आज कविता बहुत तैयार होकर घर के पास वाले पार्लर में गई

सिर्फ वही जान सकती थी उसके मन में क्या है।

पार्लर जाकर वो कुर्सी में बैठी ही थी

पार्लर वाली दीदी -जी मैडम बताइये

कविता-इन बालो की लंबाई कम कर दीजिए

पार्लर वाली दीदी-मैडम, आपके बाल इतने सुंदर है आप क्यों इन्हें छोटा करा रही वैसे हम ये सलाह किसी को नही देते मगर आपके हमेशा आती है, इसलिए कहा।

कविता-जितना आपसे कहा वो करिये।

पार्लर वाली -2,3 कैंची मारने के बाद देखिये मैडम अब ठीक है ना

कविता-और छोटा करो

पार्लर वाली -मैडम आपके बाल इतने सुदंर है ट्रिम करा लीजिये

कविता- नही छोटा करो

पार्लर वाली-पूरे कंधे तक बाल काटने के बाद मैडम देखिये अब इससे ज्यादा क्या हो सकता हैं

कविता-बालो में हाथ फेरते हुए अभी भी ये बहुत बड़े है

सब लोग उसकी तरफ देखने लगे की आखिर हुआ क्या है

कविता जोर जोर से रोने लगी देखो अभी भी ये बहुत बड़े है हाथो में पकड़ में आ रहे है इन्हें इतना छोटा कर दो की अगली बार जब वो मुझे मारे तो मेरे बाल उसकी हाथो की पहुँच से बहुत दूर हो

ऐसा कहते हुए वो जोर जोर से रोने लगीं और साथ ही हज़ारो सवाल लोगों के मन में कर गई।।

आखिर एक महिला पर हाथ उठा कर उसके बाल खींच कर ही क्यों आप खुद को ताकतवर दिखाना चाहते है ।।इंसान है आप इंसान रहे जानवर ना बने।।

#Stopvoilence against women

#ucan’t beat her

Note-“ye video Women helpline se inspired hai..