Posted on

बॉस!!

boss

कविता :-

मैंने सोचा है , बॉस ………..

                           सोचने को किस ने कहा ….?

                            पॉलिसी फाईल नहीं पढ़ी ….?

                             कायदे- कानूनों का पाठ नहीं किया ….?

                             बिन ज़रुरत फिर मुंह खोल दिया ….?

में चाहता हूँ , बॉस …….

                          चाहता कौन नहीं …..?

                           मांगता कौन नहीं ……?

                            ज़रूरतों से खाली कौन है …..?

                            तुम्हारी तरह ठाली कौन है ……?

में नहीं चाहता बॉस ……..

                             नकारात्मक अभियान है ! 

                             राजनीति का पहला निशान है !!

                               नेता बनने का पहला मुकाम है !!!

                               हमें इस से बहुत नुक्सान है !!!!

मुझे अफसोस है , बॉस ……

                                   मुझे भी , तुम्हारी नौकरी का ….

                                   तुम्हारी – ना -नूंकर और हेकड़ी का …..

                                   तुम्हारे सोचने, चाहने – न चाहने का …..

                                   और सब से ज्यादा – तुम्हारे चले जाने का ….

लेकिन बॉस मेरी …..बात …..?

………………………..

श्रेष्ठ साहित्य के लिए – मेजर कृपाल वर्मा साहित्य !!