Posted on

ढूढता हूँ

मेरे “दर्द” का इलाज ढूंढता हूं ,
इस शहर में कोई खास ढूूंढता हूं,
मेरे “दर्द” को बेहतर जाने मुझसे,
किसी को अपने इतने पास ढूंढता हूं।

Posted on

विजय गीत

शौर्य के पथ पे आज हमारा हो रहा है गुणगान,
हर एक हिन्दुस्तानी को है अपने वायुसेना पे अभिमान
कि दुनिया में है बढ़ा दिया तुमने
भारत मां का सम्मान,
ये राष्ट्र तुम्हे करता है कोटि कोटि प्रणाम

Posted on

तुम

मेरी कविता में तुम्हारा स्थान है,
क्युकी मेरी दुनिया तुम्हारे बिन विरान है,
ज़ुबा कुछ भी कहे लेकिन,
ये दिल हमेशा से तुम पे मेहरबान है