Posted on

ये शहर तमन्नाओं का बाजार है

सज रही यहां उम्मीद की बहार है

भरने दो उड़ान अपने सपनों को

कि ज़िंदगी के दिन भी तो बस दो-चार है