Posted on

महिला दिवस…

प्रकृति, शक्ति, ममता, क्षमा
दया, तपस्या, आराधना
कितने कितने रूप हैं
बहन, मित्र और मां
~कुमार गौरव