Posted on

ज़िन्दगी

ऐ जिन्दगी तू मेरा कितना ख्याल रखती है,
कहीं खुद से खुदगर्ज न हो जाऊं,
कहीं मुश्किलों में बिखर न जाऊं,
इसलिये तू हर कदम मुझे परखती रहती है |
~कुमार गौरव