Sale!

Jwalamukhi

300.00 150.00

सैलर में शराब का हिसाब-किताब करता जावेद अलग से सोच रहा है| अगर केसरी द्वारा लाई गई … भारतीय परमाणु विभाग की समूची जानकारी आज इच्छित हाथों में पहुँच जाती तो गजब हो जाता ! अब तक .. अमेरिका .. फ्रांस .. इंग्लैंड और जर्मनी .. सब को पता लग चूका होता कि भारत .. परमाणु-शक्ति के किस बिंदु तक पहुँच चूका है |

10 in stock

Description

सैलर में शराब का हिसाब-किताब करता जावेद अलग से सोच रहा है| अगर केसरी द्वारा लाई गई … भारतीय परमाणु विभाग की समूची जानकारी आज इच्छित हाथों में पहुँच जाती तो गजब हो जाता ! अब तक .. अमेरिका .. फ्रांस .. इंग्लैंड और जर्मनी .. सब को पता लग चूका होता कि भारत .. परमाणु-शक्ति के किस बिंदु तक पहुँच चूका है |

एक बारगी जावेद की मुट्ठियाँ कस आती हैं | दांत पीसकर वह स्वयं से मूक भाषा में कहता है – मुसलमान नहीं .. हिन्दू ही भारत को नीलाम कर रहे हैं .. आज भी मान सिंह मौजूद हैं | आज के युवाओं की धन के लिए खुजलाती हथेलियों में देश का अनहित समाया हुआ है |

वह पलट कर अपने जिए सात सालों का जायजा लेता है .. और निष्कर्ष निकलता है – दो देशों के बीच की लड़ाई … केवल संस्कारों और वर्गों की मोहताज है | हमे किसी चालाक हाथ ने हिन्दू-मुसलमानों के दो वर्गों में बाँट दिया है .. ताकि हम ताउम्र झगड़ते रहें !

वरना तो .. जावेद को कोई मुसलमान हिन्दू नहीं कह सकता .. और भारत में मेजर शशिकांत को कोई हिन्दू मुसलमान मानने को तैयार न होगा !!

Additional information

ISBN

978-81-932772-5-6

Author

Major Krapal Verma

Publisher

Praneta Publications Pvt. Ltd.

Binding

Hard Cover

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Jwalamukhi”