Posted on

पंछी

जी करता है

नन्हीं चिड़िया बनकर

तुमसे मिलने आऊँ माँ

फ़िर किसी टहनी पर

तुम संग

नया नीड़ बनाऊँ

माँ

मानव बन कर देख लिया

अब

पंछी बन कर रहेंगें तुम संग

तुम उड़ना दूर गगन में मइया

तुम्हें देख उड़ना सीखेंगे

फ़िर हम

कितना अच्छा होगा

यह जीवन अपना

तुम चिड़िया

हम नन्हें चूज़े

बालक बनकर

रहेंगें फ़िर हम

चलो! परिन्दे बनकर

एक नया नीड़

बनाते हैं

माँ

बस अब तुम

तिनका-तिनका

लेकर कहीं से

फ़िर से उड़ कर

आ जाओ माँ!!