Posted on

योगेश्वर

दुनिया को प्रेम सिखाया कर्म को पूजा तुमने बताया
प्रेम की भाषा जो न समझा तुमने उसको हथियार दिखाया
लीला कर लीलाधर तुमने करुणा करना सिखलाया
गीता में योगेश्वर तुमने निःस्वार्थ कर्म है सिखलाया।